राज्यसभा चुनाव: अखिलेश यादव ने बुलाई बैठक, नहीं आए ये 7 विधायक, जानें क्या है कारण

नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव की घड़ी नजदीक आते देख सभी राजनीतिक दल जरूरत से ज्यादा सक्रिय दिख रहे हैं। हाल ही में यूपी के उपचुनाव में दो सीटों पर हार का स्वाद चखने वाली भाजपा विरोधियों पर भारी दिख रही है। भाजपा का पहला पैंतरा ही विरोधी दलों पर भारी पड़ा है। हम बात कर रहे हैं नरेश अग्रवाल की। नरेश अग्रवाल और उनके बेटे नितिन अग्रवाल ने हाल ही में भाजपा का दामन थाम लिया है।

नरेश अग्रवाल का भाजपा में शामिल होना सपा से ज्यादा बसपा के लिए घातक साबित हो सकता है। बसपा को इस चुनाव में जीत के लिए 37 विधायकों की जरूरत है। सपा ने बसपा को 10 विधायकों का समर्थन देने का वादा किया है। जो कि बसपा की जीत के लिए नाकाफी है। कांग्रेस के सात तथा अजित सिंह की पार्टी के एक विधायक के समर्थन से बसपा का राज्यसभा प्रत्याशी जीत हासिल कर सकता है। ऐसे में सपा के एक भी विधायक ने क्रॉस वोटिंग की तो मायावती की जीत मुश्किल में पड़ जाएगी।

अखिलेश की बैठक में नहीं पहुंचे 7 विधायक

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा राज्यसभा चुनाव से पहले बुलाई गई बैठक में सात विधायक नहीं पहुंचे। यह बात अलग है कि इन विधायकों के न आने के कारण अलग-अलग बताए गए हैं। हालांकि, सपा ने दावा किया है कि उनके विधायक एकजुट हैं और पार्टी व्हिप के आधार पर राज्यसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशी जया बच्चन व बसपा प्रत्याशी भीमराव अम्बेडकर को वोट करेंगे।

समाजवादी पार्टी मुख्यालय पर बुधवार को विधायकों की बैठक बुलाई गई थी। अखिलेश खुद इस बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। सपा के कुल 47 विधायक हैं। इसमें से हरदोई के नितिन अग्रवाल भाजपा में शामिल हो चुके हैं। इसके चलते वे बैठक में नहीं आए। इसके अलावा शिकोहाबाद के विधायक डॉ. हरिओम जेल में बंद होने की वजह से बैठक में शामिल नहीं हो सके।

मो. आजम खां और उनके पुत्र स्वार टांडा के विधायक अब्दुल्ला आजम बैठक में नहीं पहुंचे। इसी तरह गाजीपुर सैदपुर के विधायक सुभाष पासी, आजमगढ़ मेहनगर के कल्पनाथ और अखिलेश यादव के चाचा तथा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव भी बैठक में शामिल नहीं हुए। इन सभी विधायकों के न आने के अलग-अलग कारण बताए जा रहे हैं। सपा विधायकों के बैठक में चर्चाओं का बाजार गर्म है। कुछ विधायकों के जहां टूट सकने की चर्चाएं चल रही हैं, वहीं शिवपाल के बारे में कहा जा रहा है कि सैफई में होने की वजह से वे नहीं आए।

समाजवादी पार्टी की तरफ से हालांकि यह दावा किया जा रहा है कि उनके सभी विधायक एकजुट हैं और वे किसी बहकावे में आने वाले नहीं हैं। अखिलेश ने विधायकों के साथ बैठक में राज्यसभा चुनाव में एकजुटता बनाए रखने का निर्देश दिया है। बताया जाता है कि वह गुरुवार को फिर विधायकों से मुलाकात करेंगे।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani