सिंधिया ने लिखी शिवराज को चिट्ठी, कहा-‘राजधर्म निभाते हुए दोषियों को दें सजा

भोपाल। मप्र कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बैरसिया के किसान किशोरीलाल जाटव को जिंदा जलाने के मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर दोषियों पर शीघ्र कार्रवाई कर कड़ी सजा देने की मांग करते हुए मृतक के परिवार को न्याय दिलाने की मांग की।

शिवराज सिंह को लिखे अपने पत्र में सिंधिया ने कहा है कि 21 जून को भोपाल की बैरसिया तहसील के घाटखेड़ी गांव के किसान को जिस प्रकार उसी गांव के दबंगों ने जिंदा जलाकर मार डाला, ये आज की 21 वीं सदी में भारत के माथे पर कलंक है। ऐसी घटना शायद कभी भी हमारे प्रदेश में घटित हुई हो।

मृतक किसान को 2003 से मिला था पट्टा
सिंधिया ने आगे अपने पत्र में लिखा है कि मृतक किसान को वर्ष 2003 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार के समय 3.5 एकड़ जमीन का पट्टा मिला था। उसी समय से वह इस पर खेती करता आ रहा है। मगर चूंकि वर्ष 2003 से पहले इस जमीन पर दबंगों ने कब्जा करके रखा था, जो बीच बीच में मृतक के परिवार को डराते धमकाते रहते थे। पिछले दो साल से इन दबंगों ने परिवार को ज्यादा ही प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था। समस्या के समाधान के लिए मृतक परिवार राजस्व विभाग से सीमांकन की गुहार दो साल से लगा रहा था

भाजपा से जुड़ा है एक आरोपी
उसके अनुसार उनके कब्जे में तो 3.5 एकड़ के पट्टे के एवज में से लगभग 2 एकड़ भूमि ही है। लेकिन इस पर शासन ने कोई कदम नहीं उठाया। मृतक किसान ने टीआई और तहसीलदार से कई बार आग्रह किया कि उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है, उसे न्याय दिलाएं। लेकिन उलटे उन्होंने पीड़ित किसान और उसके परिवार को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। सिंधिया ने लिखा है कि यदि समय रहते सीमांकन हो जाता तो आज ये नौबत नहीं आती और वह किसान जिंदा होता। उन्होंने ये भी लिखा है कि आरोपियों में से एक भाजपा से जुड़ा है।

दोषी अधिकारियों के खिलाफ करें कार्रवाई
सिंधिया ने अपनी चिट्टी में आगे लिखा है कि मैं स्वयं मृतक किसान के परिवार से मिला हूं। पीड़ित परिवार को शासन द्वारा न्याय मिलने की बजाय शासन के कारिंदे तहसीलदार और टीआई दबाव बनाकर आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। मैं मांग करता हूं कि प्रदेश सरकार के मुखिया होने के नाते आप टीआई और तहसीलदार को तुरंत वहां से हटाएं। दोषी अधिकारियों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई करें।

किशोरीलाल के परिवार को भूमि का सीमांकन कर उनकी संपूर्ण भूमि 3.5 एकड़ का कब्जा दिलाएं। हत्या के केस को फास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाकर, किशोरीलाल एवं उनके परिवार के साथ जल्द से जल्द न्याय कराएं और आरोपियों को सख्त सजा दिलवाएं।
सिंधिया ने अंत में लिखा है कि ये आपकी जिम्मेदारी ही नहीं है, बल्कि आपका राजधर्म है कि पीड़ित को न्याय दिलाएं तथा परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित कराएं।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani