मंदसौर रैली से बेचैन भाजपा, फिर भी एक ही अलाप- ‘परिपक्व नहीं हुए राहुल!

भोपाल। राहुल गांधी के मंदसौर दौरे के बाद बीजेपी अचानक आक्रामक भूमिका में आ गई है। मध्यप्रदेश के मंत्री हों या बीजेपी संगठन के नेता सभी एक तरफ से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरने में लगे हैं। आलम ये है कि प्रदेश के हर छोटे-बड़े बीजेपी नेता की जुबान पर राहुल गांधी हैं। खास बात ये कि बीजेपी के ये सभी नेता राहुल के सवालों का जवाब देने की बजाय उन्हें अपरिपक्व या नासमझ साबित करने में जुटे हैं।

राहुल की मंदसौर रैली के बाद बीजेपी का हर छोटा-बड़ा नेता राहुल की मंदसौर रैली का जवाब दे रहा है। हालांकि इस जवाब से वो सवाल गायब हैं जो अपनी रैली में राहुल गांधी ने पूछे हैं। बीजेपी के ज्यादातर नेता राहुल को परिपक्व होने, सच को जानने, तथ्यों को जानने की बातें कर रहे हैं। लेकिन जैन आयोग से संबंधित उनके सवाल का जवाब कोई नहीं दे रहा।

राहुल को जवाब देने का ये सिलसिला केवल मध्यप्रदेश तक सीमित नहीं है। प्रदेश के मंत्रियों के साथ ही वित्त मंत्री अरुण जेटली भी राहुल को जवाब देने से खुद को रोक नहीं सके। लेकिन, उन्होंने राहुल गांधी के सवालों को नकारते हुए कहा कि राहुल जानते ही कितना हैं। हालांकि जेटली ने राहुल के कुछ सवालों के जवाब भी दिये।

लेकिन, राहुल के द्वारा पूछे गए रोजगार के सवाल पर जेटली ने कहा कि देश में लगातार निवेश बढ़ा है, भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत हुई है। ये सारी चीजें बताती हैं कि देश में रोजगार का सृजन हुआ है। हालांकि रोजगार किन क्षेत्रों में और किस तरह सृजित हुए है इस बारे में जेटली ने कोई जानकारी नहीं दी।

इसके साथ ही मध्यप्रदेश में बीजेपी के अध्यक्ष राकेश सिंह, मंत्री लालसिंह आर्य, मंत्री विश्वास सारंग, कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं खुद सीएम शिवराज सिंह भी राहुल की रैली के जवाब में इधर-उधर के तंज मारते और उनके व्यक्तित्व को नकारने की कोशिश करते नज़र आये।

जहां राकेश सिंह ने राहुल को सपने देखने का आदी बताया और पूछा कि राहुल गांधी कब बड़े होंगे, तो वहीं सीएम शिवराज ने कहा कि राहुल गांधी, मंदसौर में घड़ियाली आंसू बहाने आए हैं। जबकि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय तो इससे भी आगे बढ़ते हुए कह गए कि राहुल गांधी के मध्यप्रदेश आने से बीजेपी की जीत आसान हुई। इसी तरह प्रदेश में बीजेपी के मंत्रियों गौरीशकंर बिसेन, विश्वास सारंग और लालसिंह आर्य ने भी राहुल गांधी पर इसी तरह के बयान दिये।

जब राहुल परिपक्व नहीं, फिर क्यों इतनी बेचैनी?
ऐसे में सवाल उठता है कि राहुल गांधी जब परिपक्व नहीं हैं और उनके आने से बीजेपी को फायदा हुआ है तो फिर बीजेपी के नेताओं में राहुल के दौरे से इतनी बेचैनी क्यों बढ़ी है। अगर राहुल के दौरे का कोई असर प्रदेश की राजनीति पर नहीं हुआ है तो प्रदेश के सभी कद्दावर मंत्री इस रैली का जवाब देते क्यों नज़र आ रहे हैं। आखिर क्यों केंद्र से लेकर प्रदेशस्तर के बीजेपी नेता केवल राहुल की रैली पर ही बोलते नज़र आ रहे हैं। और सबसे बड़ी बात कि ऐसी क्या आफत आन पड़ी थी जो राहुल की रैली के वक्त बीजेपी के कई नेताओं को प्रदेश भर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ीं।

इससे साफ होता है कि प्रदेश में सत्ता पक्ष भले ही मजबूत दिखता हो, लेकिन पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस की रणनीति में आए आक्रामक बदलाव के बाद बीजेपी में छटपटाहत तो है। हालांकि जिस तरह केवल राहुल की रैली के लिए बीजेपी के इतने सारे नेताओं को बयान देने पड़े वो बताता है कि बीजेपी जताए कुछ भी, लेकिन वो राहुल को हल्के में लेने की गलती बिल्कुल भी नहीं करेगी।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani