नोटबंदी से GDP को ऐसे हुआ बड़ा नुकसान, विश्व बैंक ने सैटेलाइट इमेज से किया खुलासा

नवंबर 2016 में केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले से वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान देश की विकास दर (ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट- GDP) को 7.3 फीसदी का नुकसान पहुंचा. यह नुकसान देश के उन जिलों को उठाना पड़ा जो असंगठित क्षेत्र के कारोबार के लिए अहम है. यह आंकलन विश्व बैंक ने नोटबंदी के फैसले से भारतीय अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान पर किया है.

विश्व बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक असंगठित क्षेत्र के लिए अहम जिलों में जीडीपी ग्रोथ 4.7 से 7.3 फीसदी तक कम हो गई थी. विश्व बैंक ने यह आंकलन करने के लिए अपरंपरागत माध्यम का इस्तेमाल किया. इस माध्यम के तहत विश्व बैंक ने एशिया में नेपाल के भूकंप, अफगानिस्तान में तनाव और भारत में मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के आधार पर एशियाई अर्थव्यवस्थाओं को पहुंचे नुकसान का आंकलन किया है.

गौरतलब है कि इस अपरंपरागत माध्यम से आंकलन करने के लिए विश्व बैंक ने आर्थिक गतिविधियों को मापने के लिए शाम और रात के समय बिजली की तीव्रता का अध्ययन किया. विश्व बैंक के मुताबिक शाम और रात के समय बिजली की तीव्रता आर्थिक गतिविधि और विकास दर को मापने का मापदंड है, क्योंकि ऊर्जा की खपत और उत्पादन एक दूसरे से सीधे तौर पर जुड़े हैं.

विश्व बैंक की इस रिपोर्ट को तैयार करने का काम सीएम बेयर, ईशा छाबड़ा, वर्गीलियो गाल्डो और मार्टिन राम ने किया. इनके मुताबिक यह आंकलन करने के लिए उन्होंने दक्षिण एशिया के अहम जिलों के ऊर्जा खपत को सैटेलाइट के जरिए मिलने वाली इमेज (ल्यूमिनॉसिटी- शाम और रात के समय औद्योगिक क्षेत्रों में बिजली की चमक) के आधार पर किया. रिपोर्ट को तैयार करने वाले सभी विश्व बैंक के प्रमुख अर्थशास्त्री हैं और दक्षिण एशिया उनका कार्यक्षेत्र है.

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नोटबंदी के बाद भारत के प्रमुख औद्योगिक जिलों में शाम और रात के समय सैटेलाइट को कम चमक दर्ज हुई है. रिपोर्ट का दावा है कि इन क्षेत्रों में चमक में दर्ज हुई गिरावट नोटबंदी के फैसले के बाद शुरू हुई और दो महीने तक जारी रही.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत की जीडीपी वित्त वर्ष 2016-17 की तीसरी तिमाही के दौरान साल दर साल के आधार पर 10.8 फीसदी बढ़कर 38.5 ट्रिलियन रुपये तक पहुंच गई. खास बात है कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में विकास दर इसी स्तर पर रही और चौथी तिमाही में यह एक फीसदी का इजाफा दर्ज करते हुए 11.7 फीसदी तक पहुंच गई. वहीं सरकारी आंकड़े दावा करते हैं कि 2017-18 की पहली तिमाही के दौरान जीडीपी ग्रोथ 11 फीसदी से ऊपर रही.

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: reporter