ट्विटर पर आमने-सामने आए अश्विन-गिब्स, फिरकी गेंदबाज ने कही बड़ी बात

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व बल्लेबाज हर्शल गिब्स को भारतीय ऑफ स्पिनर से ट्विटर पर किया एक मजाक महंगा पड़ गया। अश्विन ने इस मजाक का जवाब देते हुए गिब्स को उनके मैच फिक्सिंग स्कैंडल की याद दिला दी।

दरअसल अश्विन ने अपने ट्विटर एकाउंट पर आज नाइकी ब्रांड के एक खास जूते का प्रमोशन किया था। इस प्रमोशन में अश्विन ने नाइकी के इस जूते के तारीफ की है। अश्विन के इस पोस्ट पर हर्शल गिब्स ने फिरकी ले ली। गिब्स ने लिखा कि उम्मीद करता हूं कि अब इन जूतों को पहनकर तुम पहले से थोड़ा और तेज दौड़ोगे अश्विन। इसके साथ गिब्स ने एक हंसता हुआ स्माइली बना दिया।

अश्विन ने भी गिब्स के इस ट्वीट का जवाब देने में देर नहीं लगाई। अश्विन ने गिब्स के इस मजाक को शायद गंभीरता से ले लिया और उन्होंने लिखा, ‘इतना तेज नहीं, जितने तेज आप थे दोस्त, दुर्भाग्य से मैं उतना सुखी नहीं रहा, जितने तुम लेकिन सौभाग्य से मुझे वह नैतिक ज्ञान जरूर मिला, जिसमें मैंने सीखा कि जिस खेल से आपको भोजन मिले मैंने उसे फिक्स करना नहीं सीखा।’

गिब्स को अश्विन से ऐसे जवाब की आशा नहीं थी। गिब्स ने इसका जवाब देते हुए लिखा, ‘मुझे लगता है कि शायद तुम मजाक नहीं सह सकते, इसे यहीं खत्म करते हैं।’ इसके बाद अश्विन ने एक बार फिर गिब्स को इसका जवाब दिया। इस बार अश्विन ने लिखा, ‘मैं बता दूं कि मेरा जवाब भी एक मजाक ही था, लेकिन देखो लोगों ने और आपने भी इसे किस तरह लिया। दोस्त मैं ऐसे मजाक के लिए बिल्कुल तैयार हूं, हम कभी भोजन पर बैठकर इस मुद्दे पर बात करेंगे।’ इसके बाद अश्विन ने एक और ट्वीट किया, जिसमें लिखा, ‘जो चीजें मेरे लिए संवेदनशील है, वह किसी दूसरे के लिए नहीं होंगी, और जो चीजें आपके लिए संवेदनशील हैं वह मेरे लिए नहीं होंगी। मैं अपने प्रशंसकों का आदर करना चाहता हूं और इस ट्वीट के क्रम को यहीं खत्म करते हैं। इस तरह मेरे सभी विरोधियों के लिए यह मनोरंजन यहीं खत्म होता है। फिर मिलते हैं।’

बता दें कि हर्शल गिब्स का नाम मैच फिक्सिंग में तब सामने आया था, जब 2000 में दक्षिण अफ्रीकी टीम भारत दौरे पर थी। इसके कप्तान हैंसी क्रोन्ये थे। तब सट्टेबाजों के साथ मैच फिक्सिंग में गिब्स की भूमिका की बात सामने आई थी। गिब्स छह महीने तक निलंबित भी रहे थे और उन पर जुर्माना भी लगाया गया था।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani