8 साल पहले हो गई थी महिला की मौत, दूसरे पति के साथ आई सामने

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में महिला की मौत और फिर उसके जिंदा होने की घटना ने सभी को चौंका दिया है। बताया जा रहा है कि आठ साल पहले अस्मा बीबी (30) की हत्या उसके पति ने कर दी थी।

उस वक्त महिला की मां ने उसके पहले पति पर उसकी हत्या का आरोप लगाया था। उस मामले में पुलिस ने पाकिस्तान पीनल कोड की धारा 302 के तहत पति इबरार अहमद को गिरफ्तार भी कर लिया गया था। हालांकि, बाद में मुआवजा मिलने पर अस्मा की मां ने इबरार के खिलाफ अपनी शिकायत वापस ले ली थी।

मगर, आठ साल बाद अस्मा जब दूसरे पति और छह बच्चों के साथ सामने आई, तो लोगों को भरोसा ही नहीं हुआ। अस्मा को झेलम जिले में उसके गांव फलायान देखा गया था। लाहौर से करीब 250 किलोमीटर दूर स्थित गांव में रहने वाली इस महिला ने लोगों को अपना नाम नीलम बताया था।

मगर, उसके पहले पति के परिवार के एक सदस्य ने उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि वह अहमद से प्यार करती थी और लेकिन उसके परिवार ने जबरदस्ती उसकी शादी इबरार से कर दी। इसलिए उसने घर से भागकर अहमद से दूसरी शादी कर ली और दुबई चली गई।

झेलम पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि आसमा ने साल 2009 में इबरार अहमद से शादी की थी। इसके अगले ही साल 2010 में वह लापता हो गई थी। तब उसकी मां ने पुलिस में शिकायत कर आरोप लगाया था कि इबरार ने ही उसकी बेटी की हत्या की है।

हालांकि, आठ साल बाद जब वह लोगों को नीलम बनकर मिली, तो लोगों ने उसे अस्मा के रूप में पहचाना। इस मामले में पुलिस ने अस्मा और उसके पति के खिलाफ पाकिस्तान पीनल कोड की धारा 494 और धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। उसने पहले पति को तलाक दिए बिना दूसरी शादी की थी।
अस्मा ने बताया अहमद से दूसरी शादी पर उसे कोई पछतावा नहीं है। शनिवार को झेलम सिविल जज सोबिया खातून ने आसमा की जमानत अर्जी मंजूर कर ली और 50-50 हजार रुपए के दो मुचलके जमा करने का आदेश दिया।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani