ग्रामीण अंचलों में छुपी प्रतिभाओं को अवसर देने का काम कर रही है प्रदेश सरकार- स्कूल शिक्षा मंत्री

गणतंत्र दिवस के अवसर पर ग्राम बनखेड़ी में शासकीय माध्यमिक शाला में आयोजित मध्यान्ह भोजन में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी सम्मिलित हुए। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने सभी लोगों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बनखेड़ी में ऐसे छात्र भी हैं जिन्होंने 85 प्रतिशत अंक प्राप्त जिले का नाम रौशन किया है, इसकी मुझे प्रसन्नता है। यह जरूरी नहीं है कि प्रतिभाएं बड़े शहरों में ही मिलें। दूरदराज के ग्रामीण अंचलों में भी प्रतिभाएं छुपी होती हैं बस जरूरत हैं तो उन्हें अवसर देने की और वो अवसर देने का काम प्रदेश सरकार कर रही है।

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि बच्चों के मन में जो जिज्ञासा होती है, उसके समाधान के लिए हमने उमंग कौशल हेल्पलाईन लांच की है जिसका ट्रोल फ्री नम्बर 14425 है। बच्चों के मन में कोई भी जिज्ञासा है, जिसका उनके पास समाधान नहीं हैं तो वह उमंग परामर्श केन्द्र के हेल्पलाईन नम्बर पर सम्पर्क कर सकते हैं। उमंग कौशल हेल्पलाईन पर प्रशिक्षित लोगों द्वारा बच्चों की जिज्ञासाओं का समाधान किया जाएगा। बच्चों के साथ-साथ माता-पिता और शिक्षक भी इस ट्रोल फ्री नम्बर पर बात कर जिज्ञासाओं का समाधान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि परामर्श केन्द्रों में बच्चों की पहचान को गुप्त रखा जायेगा, ताकि वे निडर होकर अपनी बात कह सकें।

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि प्रदेश के स्कूली बच्चों के लिये ष्एमपीएस्पायरष् पोर्टल लॉन्च किया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने यूनीसेफ के सहयोग से यह पोर्टल तैयार किया गया है। इस पर कैरियर विकल्पों के अलावा 6400 कॉलेज और 1050 से ज्यादा प्रवेश परीक्षाओं की जानकारी उपलब्ध है। साथ ही पोर्टल पर 930 से ज्यादा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की छात्रवृत्तियों के साथ वोकेशनल ट्रेनिंग देने वाले संस्थानों की भी जानकारी उपलब्ध है। एमपीएस्पायर पोर्टल शासकीय स्कूलों के कक्षा 9वीं से 12वी तक के विद्यार्थियों के लिये फ्यूचर प्लेटफार्म के रूप में काम करेगा।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्कूली शिक्षा को ओर अधिक गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए महत्वपूर्ण लेकर उन्हें तेजी से क्रियान्वित किया गया है। शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए दक्षिण कोरिया की संस्था टैग हाइव के सहयोग से रायसेन जिले के सात स्कूलों तथा भोपाल के पांच स्कूलों में ‘‘कक्षा साथी परियोजना‘‘ शुरू की गई है। प्रदेश के शासकीय स्कूलों में पेरेंट्स-टीचर मीटिंग शुरू की है। उन्होंने कहा कि देश-प्रदेश के इतिहास में पहली बार प्रदेश में 35 हजार से अधिक शिक्षकों का ऑनलाईन ट्रांसफर किया गया है। शिक्षकों को भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है तथा प्रोत्साहित किया जा रहा है ताकि वे बच्चों को और बेहतर तरीके से पढ़ा सकें। उन्होंने कहा कि बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ खेलकूद, चित्रकलां सहित अन्य क्षेत्रों में आगे बढ़ने के अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं ताकि बच्चे अपने रूचि के क्षेत्र में आगे बढ़ सकें और अपना तथा देश-प्रदेश का नाम रौशन करें। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कार्यक्रम में सामूहिक नृत्य प्रस्तुत करने वाली सभी छात्राओं को स्वेच्छानुदान निधि से दो-दो हजार रूपए देने की घोषणा की।

स्कूल शिक्षा मंत्री ने बच्चों के साथ किया मध्यान्ह भोजन
शासकीय माध्यमिक स्कूल बनखेड़ी में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने छात्र-छात्राओं के साथ मध्यान्ह भोजन किया। साथ ही कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव, एसपी श्रीमती मोनिका शुक्ला, सीईओ जिला पंचायत श्री अमनवीर सिंह बैस, एसडीएम श्रीमती मिशा सिंह, जिला शिक्षा अधिकारी श्री श्री आलोक खरे, डीपीसी श्री विजय नेमा तथा श्री दातार सिंह मीणा ने भी छात्र-छात्राओं के साथ मध्यान्ह भोजन किया।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: reporter