अनजाने देश एंटिगुआ की नागरिकता लेने के पीछे ये है मेहुल चोकसी का असली गेम

पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी ने एंटीगुआ की नागरिकता पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि वह अब एंटीगुआ में ही रहेगा, क्योंकि उसे अपने कारोबार का विस्तार करना है. असल में उसके एंटीगुआ जैसे अनजाना देश चुनने के पीछे एक बड़ा खेल है. इससे उसे करीब 130 देशों में आने-जाने के लिए मुफ्त वीजा मिल जाएगा.

खुद मेहुल ने इसे स्वीकार करते हुए अपने बयान में कहा है, ‘मैं अपने कारोबार का विस्तार करना चाहता था और 130 देशों की यात्रा के लिए मुफ्त वीजा हासिल करना चाहता था.’

एंटीगुआ के नागरिकों को विभ‍ि‍न्न देशों के साथ हुए समझौते के तहत ऐसी सहूलियत हासिल है. अब चूंकि नीरव मोदी वहां का नागरिक बन चुका है, तो उसे भी ऐसी छूट मिल जाएगी.

उसने कहा कि उसके खिलाफ लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं. दूसरी तरफ, एंटीगुआ सरकार ने ऐसे संकेत दिए हैं कि अगर भारत का अनुरोध मिला तो वह कुछ एक्शन ले सकती है.

मेहुल चोकसी ने अपने वकील के माध्यम से जारी एक बयान में कहा, ‘मैं यह साफतौर पर कह सकता हूं कि मेरे खिलाफ लगाए गए आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है. मैंने कानूनसम्मत तरीके से एंटीगुआ एवं बारबुडा के नागरिक बनने के लिए आवेदन किया था. मैंने इस आवेदन के लिए जरूरी सभी शर्तें पूरी की हैं.’

हालांकि जनवरी से ही भारत से फरार मेहुल ने यह नहीं बताया कि वह देश छोड़कर क्यों भागा. उसने कहा, ‘मैंने एंटीगुआ में रहने का निर्णय लिया है, यहां की नागरिकता ली है और यहां के उन सभी कानून का पालन करूंगा जो हर नागरिक का कर्तव्य होता है.’

सीबीआई के अधिकारी मेहुल की नागरिकता के बारे में एंटीगुआ के प्रशासन से बात कर रहे हैं. एंटीगुआ सरकार ने संकेत दिया है कि भारत के अनुरोध पर वह कुछ कदम उठा सकती है. उसने कहा है कि भारत से यदि कोई ‘वैध अनुरोध’ आता है, तो वह उसे स्वीकार करेगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार एंटीगुआ सरकार ने कहा है, ‘भारत से यदि भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को वापस भेजने का कोई वैध अनुरोध आता है तो उस पर विचार किया जा सकता है. सरकार इसमें कानून के मुताबिक काम करेगी.’ एंटीगुआ सरकार ने कहा कि उसे अभी इसके बारे में भारत सरकार से कोई अनुरोध नहीं मिला है.

मेहुल चोकसी ने पीएनबी घोटाले के खुलासे से पहले ही पिछले साल नवंबर में कैरिबियाई द्वीप एंटीगुआ की नागरिकता हासिल कर ली थी. एंटीगुआ की सरकार ने इस बात की पुष्ट‍ि की है. पंजाब नेशनल बैंक में हुए घोटाले में ज्यूलर नीरव मोदी के साथ ही उसके मामा मेहुल चोकसी आरोपी हैं.

ऐसी खबरें आने के बाद कि मेहुल चोकसी अमेरिका से एंटीगुआ जा चुका है, एंटीगुआ ऐंड बारबुडा के सिटीजन बाइ इनवेस्टमेंट यूनिट (CIU) ने एक बयान में कहा था, ‘गहन जांच के बाद मेहुल चोकसी को रजिस्ट्रेशन के द्वारा नवंबर, 2017 में नागरिकता दे दी गई थी. जांच में चोकसी के खि‍लाफ कुछ भी गलत नहीं पाया गया था.’

गौरतलब है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने पीएनबी घोटाले में इस साल फरवरी में मेहुल चोकसी और नीरव मोदी के खिलाफ केस दर्ज किया था. घोटाले का खुलासा होने से पहले ही दोनों देश से फरार हो गए थे.

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: reporter