अब तक उपभोक्ताओं को लगी लाखों की चपत

पेट्रोलियममंत्रालय के फैसले के बाद हर महीने थोड़ी-थोड़ी एलपीजी गैस की कीमतें बढ़ रही थीं। वहीं दूसरी ओर बैंकों में डल रही सब्सिडी पर कटौती भी हो रही थी। ऐसा करते केंद्र सरकार मार्च 2018 तक सिलेंडरों से पूरी तरह से सब्सिडी समाप्त करने के मूड में थी, लेकिन अब उज्जवल स्कीम के नाम पर केंद्र ने अपने इस फैसले को वापस ले लिया है, जिससे नए साल में हम सभी को फायदा होगा। अब हर महीने सिलेंडर के दाम नहीं बढ़ेंगे। बता दें कि रसोई गैस सब्सिडी में गड़बड़ी को रोकने के लिए 2015 में डीबीटीएल योजना शुरू की गई थी। सब्सिडी का पैसा बैंक खातों के जरिए ऑनलाइन किया गया। इसके बाद से ही सरकार लगातार प्रयास कर रही है कि कम से कम सब्सिडी दी जाए। सरकार ने विशेष अभियान चलाकर लोगों को सब्सिडी छोड़ने के लिए प्रोत्साहित किया। उसके बाद कई लोगों ने सब्सिडी छोड़ी। वहीं जिन परिवारों ने सब्सिडी लेनी छोड़ी नहीं उनके खाते में भी सब्सिडी के पैसे कटना शुरू हो गए। जिले भर में 2 लाख 46 हजार रसोई गैस उपभोक्ता हैं, जिनको लाखों की चपत लगी है।

ऐसे होती गई सब्सिडी कम

जुलाई,2017 को 31.99 रुपए सब्सिडी कम हुई, जबकि अगस्त, 01.82, सितंबर 07.09, अक्टूबर 03.83, नवंबर 04.00 दिसंबर 05.80 रुपए सब्सिडी कम की गई थी।

लाभार्थियों को सिलेंडर भरवाना पड़ रहा था महंगा

^डीबीटीएलयोजना के तहत सब्सिडी को कम किया जा रहा था। इसका कारण यह रहा कि सरकार ने उज्जवल योजना के तहत जिन गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए थे। अब उन्हें महंगे दाम पर सिलेंडर भरवाना पड़ रहा था। अरविंद,रीजनल सेल्स मैनेजर, इंडेन, लुधियाना

ये रही साल भर गैस सिलेंडरों की कीमतें

जनवरी,2017 में सिलेंडर भरवाने की कीमत 604.50 रुपए थी, फरवरी में 670.50, मार्च 756.50, अप्रैल 742.50, मई 650.50, जून 571.50, जुलाई 585.50, अगस्त 544.50, सितंबर 618.50, अक्टूबर 668.00, नवंबर 761.00 तथा दिसंबर, 2017 को 766.00 रुपए कीमत हो गए थी।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani