बैंक घोटाले पर विपक्ष ने कैप्टन को घेरा

चंडीगढ़: नीरव मोदी और विक्रम कोठारी के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के दामाद गुरपाल सिंह के बैंक घोटाले में शामिल होने को लेकर विपक्ष हमलावर हो गया है। विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि इसकी निष्पक्ष जाच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह केवल गुरपाल का मामला नहीं हैं, अगर देश भर में सीबीआइ बड़े नेताओं की पड़ताल करेगी, तो तमाम और घोटाले सामने आएंगे। सीबीआइ को इस मामले में गंभीरता के साथ जाच करनी चाहिए।

वहीं, भाजपा के पूर्व प्रदेश प्रधान कमल शर्मा ने कहा है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के दामाद बैंकों व किसानों का करोड़ों रुपये डकार गए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। शर्मा ने कहा कि बिना राजनीतिक शह के यह घोटाला संभव नहीं था। उन्होंने कहा कि नैतिक आधार पर मुख्यमंत्री व काग्रेस पार्टी पूरे मसले पर जवाब दें। केंद्रीय जाच ब्यूरो की ओर सिंभावली शुगर्स लिमिटेड के चेयरमैन गुरमीत सिंह मान, उप प्रबंध निदेशक गुरपाल सिंह और अन्य को लगभग 200 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले का आरोपी बनाया है। बैंक के डिप्टी एमडी गुरुपाल सिंह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के दामाद हैं। कमल शर्मा ने इस बात पर भी हैरानी जताई कि इस घोटाले को भाजपा के सिर मढ़ने के चक्कर में बिना जाच के ट्वीट कर काग्रेस ने देश में अपनी हास्यास्पद छवि बना ली और शर्मसार हो कर अपना ट्वीट वापस लेना पड़ा। शर्मा ने बताया कि नीरव मोदी से लेकर ललित मोदी, विजय माल्या और अब दामाद घोटाला सभी की जननी काग्रेस पार्टी ही है

क्या है मामला

2011 में रिजर्व बैंक की गन्ना किसानों के लिए लाई गई योजना के तहत सिंभावली शुगर्स लिमिटेड ने 97.85 करोड़ का लोन लिया था। इस रकम को गन्ना किसानों को वित्तीय मदद के रूप में बाटना था, लेकिन कंपनी ने फर्जीवाड़ा करके इस रकम को अपने काम के लिए खर्च कर लिया। 31 मार्च 2015 को यह लोन एनपीए बन गया, जिसके बाद कंपनी ने पिछले लोन चुकाने के लिए 110 करोड़ रुपये का नया लोन लिया। नोटबंदी के 20 दिन बाद 29 नवंबर 2016 को एनपीए घोषित कर दिया गया। यह बैंक से 97.85 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला है और 109.08 करोड़ रुपये का लोन डिफॉल्ट हुआ है।

सीबीआइ ने दर्ज किया केस

गौरतलब है कि रविवार को सीबीआइ ने उत्तर प्रदेश की सिंभावली चीनी मिल के प्रबंधकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। इसी सिलसिले में मिल के चेय

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani