अगले साल से सिर्फ 12,000 रुपये में भर सकेंगे यूरोप की उड़ान?

मुंबई भारत में फिलहाल सस्ती घरेलू उड़ानों का मार्केट बूम पर है, लेकिन एक साल के भीतर लंबी दूरी की सस्ती अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का बिजनस भी जोर पकड़ सकता है। यूरोप, अमेरिका, दक्षिण पूर्व एशिया और ऑस्ट्रेलिया के बाद जल्दी ही यह बिजनस भारत में आ सकता है। यह उड़ानें भारत में सस्ती विमानन सेवाएं देने वाली कंपनियों की ओर से ही नहीं ऑफर की जाएंगी। यदि स्पाइसजेट और इंडिगो जैसी कंपनियां सस्ते दाम पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के ऑफर में देर करती हैं तो सिंगापुर एयरलाइंस की सहायक कंपनी स्कूट भारत में यह पहल कर सकती है। स्कूट ‘पांचवीं आजादी’ के नाम से दो देशों के बीच सस्ती उड़ान सेवाओं का संचालन करती है।

भारत में स्कूट के हेड भारत महादेवन ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘इस योजना के भारत में लागू होने पर हम मुंबई, दिल्ली, चेन्नै और कोलकाता जैसे शहरों से सीधे कोपेनहेगन, विएना, काहिरा और मैनचेस्टर के लिए उड़ान सेवाएं शुरू करेंगे।’ दिलचस्प यह है कि स्कूट की ओर से मुंबई-कोपेनहेगन फ्लाइट महज 12,000 या 13,000 में ऑफर की जा सकती है। इसमें यात्री को 20 किलो तक का सामान ले जाने और खाने की व्यवस्था भी शामिल होगी। महादेवन ने कहा, ‘यूरोप का रिटर्न ट्रिप 26,000 रुपये तक का हो सकता है।’

फिलहाल भारत और यूरोप के बीच फ्लाइट का न्यूनतम किराया 45,000 रुपये है। स्कूट के अलावा नॉर्वे एयर भारत में ऐसी उड़ान सेवाएं शुरू करने का इच्छुक है। जानकारों का कहना है कि लंबी दूरी की सस्ती अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का मार्केट बढ़ रहा है। उड़ानों और यात्रियों की संख्या में इजाफे से सस्ते किराये के चलते होने वाले नुकसान को साधा जा सकता है। सेंटर फॉर एशिया पैसिफिक की मई-जून 2017 की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘लंबी दूरी की लो-कॉस्ट सेवाओं ने पहली बार एक सप्ताह में 5 लाख यात्रियों के उड़ान भरने का आंकड़ा पार किया है।’

सेंटर फॉर एशिया पैसिफिक के कपिल कौल का कहना है कि कंपनियां अब भारत को इन ऑपरेशंस के लिए बड़े बाजार के तौर पर देख रही हैं। अगले वित्तीय वर्ष से हम भारत में भी लंबी दूरी की सस्ती विमानन सेवाओं को गति पकड़ते देख सकते हैं। इंडिगो और स्पाइसेजट के प्रवक्ताओं ने कहा कि कंपनी ने फिलहाल ऐसी कोई योजना लॉन्च करने के बारे में नहीं सोचा है। हालांकि इंडस्ट्री के आंतरिक सूत्रों का कहना है कि कंपनियां फिलहाल अपने पत्ते नहीं खोलना चाहतीं।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani