3 सालों की तुलना में इस साल BRD अस्पताल में हुईं सबसे कम मौतें

गोरखपुर। बच्चों की मौत को लेकर चर्चा में आए गोरखपुर के बाबा राघव दास (BRD) मेडिकल कॉलेज को लेकर एक नई और चौकाने वाली जानकारी सामने आई है। यूपी सरकार से मिले आंकड़ों के मुताबिक, बच्चों की मौत के मामलों में पिछले तीन साल की तुलना में इस साल गिरावट आई है।

आंकड़े बताते हैं कि BRD मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2014 में 51 हजार 18 बच्चे भर्ती हुए थे जिनमें से 5,850 बच्चों की मौत हुई थी। अगले साल 2015 में 61 हजार 295 बच्चे भर्ती हुए थे जिनमें से 6,917 बच्चों की मौत हो गई थी। आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल 2016 में 60 हजार 891 बच्चे मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुए थे जिनमें से 6,121 बच्चों की मौत हो गई थी।

इस साल अगस्त तक प्रतिदन औसतन छह से अधिक बच्चों की मौत हुई। अगर तीनों सालों के आंकडों से इस साल हुई मौतों की तुलना की जाए तो इस साल पिछली दफा के मुकाबले मरने वाले बच्चों की संख्या कम नजर आ रही है।

उधर, कांग्रेस के प्रवक्ता अशोक सिंह ने आरोप लगाया कि यूपी सरकार गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत रोक पाने में नाकाम रही है। बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़ा है और सरकार इसको रोकने में विफल साबित हुई है।

स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने इसके जवाब में कहा कि योगी सरकार पर इस तरह के आरोप लगाना गलत है। पिछले वर्षों की तुलना में इस साल बच्चों की कम मौतें हुई हैं। इसका कारण है कि पिछले पांच महीनों में सरकार ने अच्छा काम किया है। हमने इन्सेफेलाइटिस उपचार केंद्रों को मजबूत करते हुए बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं।

हमने प्रभावकारी कदम उठाए ताकि अधिक से अधिक मरीजों का उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर ही हो जाए और उन्हें BRD मेडिकल कॉलेज की तरफ न भागना पड़े।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani