आतंकवाद अौर खेल एक साथ नहीं चल सकते, पाक खिलाड़ियों को नहीं मिलेगा वीजा

खेल मंत्री विजय गोयल ने कहा है कि पाकिस्तान जब तक सीमापार आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद नहीं करता, तब तक दोनों पड़ोसी देशों के बीच द्विपक्षीय खेल संबंध जारी नहीं रह सकते।

भारत सरकार ने एशियाई चैंपियनशिप के लिए स्क्वॉश और कुश्ती के पाकिस्तानी खिलाडि़यों को वीजा देने से इन्कार कर दिया है। विजय गोयल ने भारत सरकार के इस कदम की प्रशंसा की। गोयल ने कहा कि खेल और आतंकवाद एक साथ नहीं चल सकते हैं, पाकिस्तान को यह बात समझनी चाहिए। उन्होंने बुधवार को राष्ट्रीय युवा सम्मान के चयन की प्रक्रिया ऑनलाइन किये जाने की घोषणा करने के बाद यह बात कही।

उन्होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित सीमापार आतंकवाद को गंभीरता से लिया है। वीजा नहीं देने के फैसले का मकसद पाकिस्तानी जनता द्वारा वहां की सरकार पर आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए दबाव बनाना है। पूरी दुनिया जानती है कि पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है।
पाकिस्तान कुश्ती संघ की ओर से बुधवार को दावा किया गया कि दिल्ली में दस से 14 मई तक होने वाली एशियन चैंपियनशिप के लिए भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तान की टीम को वीजा देने से इन्कार कर दिया। इससे पहले पाकिस्तान स्क्वॉश संघ ने भी चेन्नई में होने वाली एशियन चैंपियनशिप के लिए पाकिस्तानी टीम को वीजा देने से इन्कार करने की बात कही थी।

गोयल ने फीफा अंडर-17 विश्व कप प्रतियोगिता की तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर कहा कि देश में फुटबॉल की यह सबसे बड़ी प्रतियोगिता इस साल के अंत में कोलकाता सहित अन्य शहरों में आयोजित होगी। खेल मंत्री ने कहा कि तैयारियों को लेकर लापरवाही बरते जाने की शिकायतें मिलने पर मैं खुद मैचों के आयोजन से जुड़े शहरों में जाकर तैयारियों का जायजा लूंगा। इस सिलसिले में मेरी केरल के मुख्यमंत्री और खेल मंत्री से बातचीत भी हो चुकी है और पांच मई को मैं कोलकाता भी जा रहा हूं। आयोजन से जुड़े अधिकारियों को तैयारी मुकम्मल करने के लिए सभी जरूरतें 15 मई तक पूरी कर दी जाएंगी।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani