कोविंद ने डोकलाम विवाद सुलझाने में भूटान के समर्थन की तारीफ की

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने डोकलाम विवाद में भूटान के समर्थन की तारीफ की है। उन्होंने बुधवार को भूटानी नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक से राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की। वह पत्नी जेत्सुन पेमा वांगचुक और राजकुमार जिग्मे नामग्याल वांगचुक के साथ चार दिवसीय भारत यात्रा पर आए हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूटानी प्रिंस को फीफा अंडर-17 का आधिकारिक फूटबॉल और शतरंज भेंट की। वह अगले साल फरवरी में दो वर्ष के होंगे। पीएम ने ट्विटर पर इसकी तस्वीर भी साझा की है। भूटानी नरेश ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात की।

राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी बयान के मुताबिक डोकलाम में उत्पन्न परिस्थिति को निपटाने के लिए भारत और भूटान जिस तरीके से एक साथ खड़े रहे वह आपसी दोस्ती का स्पष्ट प्रमाण है। कोविंद ने कहा कि दोनों देशों की सुरक्षा चिंताएं साझा और अभिन्न हैं। राष्ट्रपति ने चीन के साथ 73 दिनों तक चलने वाले विवाद को सुलझाने में भूटान नरेश के हस्तक्षेप और दिशा-निर्देशन को लेकर आभार जताया है। उन्होंने कहा, ‘हमारा संबंध विशिष्ट और खास है। दोनों देशों के द्विपक्षीय रिश्ते विश्वास और आपसी समझ पर आधारित हैं। भारत और भूटान को द्विपक्षीय रिश्तों को पड़ोसी देशों के लिए प्रतिमान के तौर पर पेश करने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए।’

राष्ट्रपति ने विशिष्ट संस्कृति को बरकरार रखते हुए भूटान की प्रगति पर प्रसन्नता भी जाहिर की। इस बीच, भूटानी दूतावास ने एक बयान जारी कर बताया कि दोनों देश वर्ष 2018 को राजनयिक संबंधों के स्वर्ण जयंती वर्ष के तौर मानने पर सहमति जताई है। कोविंद ने इस मौके पर भूटान नरेश को विशेष अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया जिसे उन्होंने स्वीकर कर लिया है।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani