भारत ने विश्व महिला युवा मुक्केबाजी में जीते 5 स्वर्ण, पहली बार बना चैंपियन

गुवाहाटी। अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (आईबा) की विश्व महिला युवा मुक्केबाजी में भारतीय मुक्केबाजों ने पांच स्वर्ण जीतकर देश को पहली बार प्रतियोगिता के विजेता बनने का गौरव दिलाया। भारत की ओर से नीतू (48 किग्रा), ज्योति गुलिया (51 किग्रा), साक्षी चौधरी (54 किग्रा), शशि चोपड़ा (57 किग्रा) और अंकुशिता बोरो (64 किग्रा) ने अपने-अपने मुकाबलों में जीत दर्ज की।

जीत के साथ ज्योति ने अगले साल अर्जेंटीना में होने वाले युवा ओलिंपिक खेलों के लिए क्वालीफाई भी कर लिया। भारत की ओर से नेहा यादव (+81 किग्रा) और अनुपमा (81 किग्रा) ने प्रतियोगिता में कांस्य पदक भी जीते। भारत ने इस बड़ी स्पर्धा में अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। अंकुशिता को टूर्नामेंट की सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज घोषित किया गया।

टूर्नामेंट के पिछले संस्करण में भारत केवल एक कांस्य पदक ही जीत सका था। इससे पहले 2011 में सरजूबाला देवी ने टूर्नामेंट में देश को स्वर्ण दिलाया था। भारतीय मुक्केबाजी संघ के अध्यक्ष अजय सिंह ने स्वर्ण पदक जीतने वाली हर मुक्केबाज को दो लाख का नकद पुरस्कार देने का एलान किया। रविवार को नीतू ने कजाकिस्तान की जजीरा उराकबायेवा को हराकर स्वर्ण जीता। ज्योति ने रूस की इकातेरिना मॉलशानोवा, साक्षी ने इंग्लैंड की इवी जेन स्मिथ को और शशि ने वियतनाम की नगाक दो होंग को हराया।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani