आपकी ये आदतें हैं किडनी की दुश्मन, जाने क्या नहीं करना चाहिए

मल्टीमीडिया डेस्क। किडनी हमारे सभी आवश्यक कार्यों जैसे हमारे शरीर में खून को साफ करने, हार्मोन बनाने, खनिजों का अवशोषण करने, मूत्र बनाने, शरीर से जहरीले पदार्थों को दूर करने और एसिड बैलेंस बनाए रखता है। यह हमारे शरीर का सबसे अहम हिस्सा होता है। मगर, आपकी जीवनशैली से जुड़ी कुछ खराब आदतें इसे नुकसान पहुंचा सकती हैं। जानिए किन बातों से आपको बचकर रहना है, ताकि आपका गुर्दा लंबे समय तक स्वस्थ रह सके।

कम पानी पीना: हमारा 70 फीसद शरीर पानी से बना है। कम पानी पीने से गुर्दे बुरी तरह से प्रभावित होते हैं। गुर्दा खून को साफ करता है और शरीर से खराब चीजों को अलग करता है, जिसमें पानी की बड़ी भूमिका होती है। यदि आप कम पानी पीते हैं, तो विषाक्त पदार्थों को छानने के बजाय, शरीर इन विषाक्त पदार्थों को जमा करना शुरू कर देगा।

अधिक नमक लेते हैंः कुछ लोग अपनी जरूरत से अधिक नमक की खपत करते हैं। शायद वे नहीं जानते हैं कि उनकी यह आदत उनके गुर्दा के स्वास्थ्य के लिए कितनी नुकसानदेह है। अधिक नमक खाने से शरीर में सोडियम बढ़ता है। यह ब्लडप्रेशर को प्रभावित करता है, जिससे गुर्दे पर जोर पड़ता है। इसलिए, प्रति दिन 5 ग्राम से अधिक नमक नहीं खाना चाहिए।

मूत्र को रोककर रखनाः कुछ लोगों को मूत्र रोकने की आदत होती है। टॉयलेट को अधिक समय तक रोककर रखने से गुर्दा संबंधी समस्याएं बढ़ जाती हैं। इस बुरी आदत से गुर्दे में पथरी या किडनी के फेल होने की आशंका बढ़ जाती है।

अधिक मीठा खानाः अधिक मिठाई खाना आपकी किडनी के लिए नुकसानदेह हो सकता है। दरअसल, अधिक मीठा खाना खाने से मूत्र के साथ प्रोटीन का निकलना शुरू हो जाता है। यदि आपके साथ भी ऐसा ही हो रहा है, तो समझलें कि आप किडनी की परेशानी से जूझ रहे हैं।

अधिक दर्द निवारक दवाएं: हर समस्या में दर्द निवारक दवाएं खाने का खराब असर किडनी पर पड़ता है। इसलिए, केवल चिकित्सक की सलाह से ही दर्द निवारक लेनी चाहिए।

धूम्रपान और तम्बाकू: धूम्रपान और तंबाकू के उपयोग करने से कई गंभीर समस्याएं होती हैं, लेकिन इससे एथ्रोस्केलेरोसिस (Atherosclerosis) रोग भी होता है। इसके कारण रक्त वाहिकाओं में खून के प्रवाह और किडनी में ब्लड प्रेशर भी कम हो जाता है, जिससे उसकी कार्यप्रणाली प्रभावित होती है। इसलिए धूम्रपान और तम्बाकू का सेवन न करें।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani