पाकिस्तान में नाबालिग लड़की को निर्वस्‍त्र करके गांव में घुमाया

उत्तर-पश्चिम पाकिस्तान के सुदूर इलाके में हथियारबंद लोगों द्वारा 16 साल की लड़की को अर्धनग्न हालत में पूरे गांव में घुमाने का मामला सामने आया है।
पुलिस के मुताबिक इन लोगों ने अपने परिवार के ‘सम्मान’ को वापस हासिल करने के नाम पर ऐसा किया। स्थानीय लोगों का कहना है कि लड़की को इसलिए निशाना बनाया गया, क्योंकि उसके भाई का हमलावरों के परिवार की एक लड़की से गुप्त प्रेम प्रसंग रहा था।

घटना पिछले हफ्ते खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के शहर डेरा इस्माइल खां से करीब 80 किलोमीटर दूर बसे गांव चौदवां में हुई। यह मामला गुरुवार को प्रकाश में आया जब मीडिया को इसकी भनक लगी।

पुलिस ने आठ लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और नौवें की तलाश की जा रही है। लोगों का कहना है कि लड़की पर दिन-दहाड़े उस समय हमला किया गया, जब वह तालाब से पानी लाने जा रही थी।

लड़की ने यूं सुनाई आपबीती
लड़की ने स्थानीय पत्रकारों को बताया, “मैं और मेरी चचेरी बहनें घड़ों में पानी भरकर लौट रही थीं, तभी ये लोग हमारे पास आ गए। उन्होंने मुझे धक्का दिया और मैं गिर गई। इसके बाद उन्होंने कैंचियों से मेरे कपड़े काटे। मेरी एक बहन ने अपने दुपट्टे से मुझे ढकने की कोशिश की मगर उन्होंने वह भी छीन लिया।”

लड़की ने बचने की कोशिश की और बगल के एक घर में चली गई। मगर वे लोग वहां भी पहुंच गए।
“मैं एक खाट के बगल में छिपी हुई थी मगर उन्होंने मुझे वहां से खींच लिया। एक पड़ोसी ने बीच में आने की कोशिश की मगर उन्होंने उसे बंदूकों से धमका दिया।”

एक घंटे तक जारी रहा सिलसिला
स्थानीय लोगों और पुलिस का कहना है कि यह घटनाक्रम एक घंटे तक जारी रहा, इसके बाद उन लोगों ने लड़की को जाने दिया। लड़की ने कहा, “मेरे अंकल का घर पास ही थी, इसलिए मैं वहां दौड़ गई और कपड़े लिए।”

लड़की ने अपनी मां और बहनों की मौजूदगी में पूरी घटना की जानकारी मीडिया को दी। उसकी मां, जो विधवा हैं, ने कहा कि जैसे ही उन्हें घटना की जानकारी मिली, वह अपनी बेटी की तलाश में निकल पड़ी थीं।

“गली में मैंने कुछ कुछ हथियारबंद लोग देखे। मैंने उनसे पूछा कि मेरी बेटी के साथ क्या किया। जवाब देने के बजाय उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम्हारा बेटा कहां है। वे मेरा मजाक उड़ा रहे थे।” उन्होंने बताया कि गली में कुछ आगे जाने पर मुझे अपनी बेटी की कमीज का टुकड़ा मिला था।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani