कटोरा लिए भीख मांग रही करोड़पति कारोबारी की पोती!

कानपुर। साईं धाम मंदिर के बाहर एक 18 साल की लड़की हाथों में कटोरा और दूसरे हाथ में दिलबाग गुटखे के पैकट लेकर भीख मांग रही थी। उसने बताया कि मैं दिलबाग अरोड़ा जिनका दिलबाग गुटखा है उनकी पोती हूं। यह मंदिर मेरे दादा ने बनवाया है। उसका यह रूप देखकर सभी हैरान रह गए।

बताया जा रहा है कि साकेत नगर में रहने वाली रितु अरोड़ा की शादी दिलबाग अरोड़ा के बड़े बेटे अरुण अरोड़ा से सन् 1994 में हुई थी। शादी के दो साल बाद ही अरुण और रितु से तलाक हो गया था। लेकिन तलाक से पहले ही दोनों के बीच एक बेटी का जन्म हुआ था। इसके बाद अरुण ने तीन शादियां कीं, लेकिन किसी से एक भी बच्चा नहीं हुआ।

‘पहली पत्नी से हो चुका है तलाक’

रितु अरोड़ा ने बताया कि मेरे पिता ज्ञानेंद्र जौहरी कस्टम विभाग में इंस्पेक्टर थे। वह रिटायर्ड होने के बाद इनकी गौशाला स्थित गुटखा फैक्ट्री में ऑफिस का काम देखने लगे। इस दौरान मेरे पिता और दिलबाग अरोड़ा की अच्छी दोस्ती हो गई। दिलबाग अरोड़ा ने अपने बेटे अरुण की शादी का प्रपोजल मेरे पापा के सामने रख दिया, जबकि अरुण का पहली पत्नी से तलाक हो चुका था।

‘तलाक के बाद दिए सिर्फ 2 लाख रुपये’

रितु अरोड़ा ने बताया कि ‘जब मेरे पापा ने दिलबाग अरोड़ा से कहा कि अरुण की तो शादी हो चुकी है तो उन्होंने बताया था कि शादी तो हुई थी, लेकिन अब उससे तलाक हो गया है। मुझे आपकी बेटी पसंद है और इसकी शादी अरुण से कराना चाहते हैं।

इसके बाद सन् 1994 में अरुण और मेरी शादी हो गई। आरोप है कि इसके बाद एक बेटी हुई, लेकिन शादी के दो साल बाद ही अरुण ने मुझे तलाक दे दिया, इसके बदले में मुझे सिर्फ दो लाख रुपये दिए थे।’

‘अन्य पत्नियों से नहीं हुआ कोई बच्चा’

रितु अरोड़ा ने बताया कि ‘किसी तरह मैंने सिलाई मशीन चलाकर और प्राइवेट कम्पनी में जॉब करके अपनी बेटी का पालन पोषण किया। वह बीए कर रही है और उसका लास्ट इयर है। मुझे तलाक लेने के बाद अरुण ने दो शादियां और कीं और उनसे भी तलाक हो गया, लेकिन अरुण के सिर्फ मुझसे ही एक बेटी है उसके किसी भी पत्नी से कोई बच्चा नहीं हुआ है।’

‘कई शादियां की है कारोबारी के बेटे ने’

रितु अरोड़ा का आरोप है कि ‘दिलबाग अरोड़ा के चार बेटे हैं अरुण अरोड़ा, परवीन अरोड़ा, राजकुमार अरोड़ा और राजू अरोड़ा। सभी भाई अपना-अपना बिजनेस संभाल रहे हैं। इनकी कई फैक्ट्री और कोठी हैं, करोड़ो की जायदाद है, लेकिन अरुण अरोड़ा अय्यास है। उसकी नजरों में महिलाओं की कोई कीमत नहीं है।’

‘पांचवी शादी की कर रहे तैयारी’

वहीं, रितु की बेटी ने आरोप लगाया कि ‘मेरे पापा चार शादी कर चुके हैं और पांचवी शादी करने की तैयारी कर रहे हैं। उनकी उम्र 57 साल हो चुकी है, लेकिन उनका शादियों से मन नहीं भर रहा है। मैं अरुण अरोड़ा की इकलौती वारिस हूं, लेकिन वह मुझे अपना वारिस मानने को तैयार नहीं हैं। दादा दिलबाग अरोड़ा की उम्र 80 साल के ऊपर की हो गई है वह भी असहाय हो गए हैं।’

‘अपना वारिस मानने से कर रहे इनकार’

उसने आरोप लगाया कि ‘किसी तरह मेरी मां ने मुझे पढ़ाया लिखाया। एक दिन मैंने अरुण अरोड़ा को फोन किया कहा मैं आप की बेटी बोल रही हूं। उन्होंने मेरा हाल पूछा और कहा कि मैंने एक लड़की देखी है उससे शादी करने जा रहा हूं। इस बात को लेकर मेरी बहुत बहस हुई। जब मैंने उनसे अपना हक़ मांगा तो उन्होंने कहा कि जाओ तुम मैं तुम्हें अपना वारिस नहीं बनाऊंगा। अपना हक़ ले पाओ तो ले लो।’

‘फैक्ट्रियों के सामने मांगेगी भीख’

आरोप लगाया कि ‘मैंने कहा कैसे अब मेरी आगे की पढ़ाई होगी और कैसे शादी होगी तो उन्होंने कहा मुझे इससे कोई मतलब नहीं है।’ रितु की बेटी का कहना है कि ‘अब मैं उन स्थानों पर हक की भीख मांगूंगी जहां पर इनकी फैक्ट्रियां हैं और कोठियां हैं। मुझे अपना हक़ ऐसे तो मिलेगा नहीं मेरी मां सीधी थी, लेकिन मैं अपना हक़ लेकर रहूंगी।’

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani