IPL 10: मुंबई इंडियंस के क्रुणाल पांड्या ने बताया, कितना शरारती है छोटा भाई हार्दिक

आईपीएल 10 में मुंबई इंडियंस की खिताबी जीत में दो भाइयों क्रुणाल पांड्या और हार्दिक पांड्या के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता. टीम के लगभग हर मैच में इन दोनों भाइयों में से किसी न किसी ने (कभी-कभी दोनों ने) जीत में योगदान दिया. ये दोनों टीम में ऑलराउंडर की हैसियत से खेलते हैं. ऐसे में बल्‍लेबाजी के अलावा गेंदबाजी में भी टीम के लिए अहम भूमिका निभाते हैं. दोनों भाइयों में छोटे हार्दिक की गिनती तेजतर्रार फील्‍डर्स में होती है. अपने क्षेत्ररक्षण से वे टीम के लिए रन बचाने में कामयाब होते हैं.

कुछ समय पहले ये दोनों भाई ट्विटर पर तूतू-मैंमैं के मूड में नजर आए. इन दोनों के फैंस ने सोशल मीडिया पर इसके लिए न सिर्फ खिंचाई की बल्कि खेल पर ध्‍यान देने की नसीहत भी दे डाली. इन दोनों की फ्रेंचाइजी ने अपने आफिशियल एकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है. इसमें इन दोनों के बीच के दोस्‍ताना और प्रतिद्वंद्वितापूर्ण रिश्‍ते (खेल को लेकर) के बारे में बताया गया है. इस वीडियो में क्रुणाल को यह बताते हुए दिखाया गया है कि उनका छोटा भाई कितना शरारती है.

क्रुणाल कहते हैं, ‘वह (हार्दिक) बेहद शरारती था. अभी भी हैं लेकिन थोड़ा कम. इसके लिए उसे मां की तरफ से फटकार और पिटाई भी पड़ती रही है. मैं उसे अकेला नहीं छोड़ सकता. वह ऐसा ही है. ‘ उन्‍होंने कहा कि वह अच्‍छा या खराब जैसा भी प्रदर्शन करे, मुझसे दूर भागता रहता है क्‍योंकि मैं उसकी खूब खिंचाई करता हूं. भले ही वह 50 रन बनाए या कोई विकेट ले, मैं उसे यह बताना नहीं भूलता कि उसका एक चौका बल्‍ले का बाहरी किनारा लगकर आया या उसने एक वाइड बॉल फेंकी. मैं लगातार ऐसा करके उसकी खिंचाई करता रहता हूं.’ यह पूछने पर कि मैदान पर उनके रिश्‍ते किस तरह के होते हैं या वे एक-दूसरे के साथ अभ्‍यास करते हैं, इसका भी क्रुणाल ने जवाब दिया. उन्‍होंने कहा, हम कभी एक साथ अभ्‍यास नहीं करते क्‍योंकि हमारा झगड़ा बहुत होता है. जब भी वह आउट होता है तो इसे स्‍वीकार नहीं कर पाता. यहां तक कि वह यह कहकर थर्ड अम्‍पायर की मदद लेने से भी इनकार कर देता है कि तुम कुछ भी नहीं जानते.

बड़े भाई क्रुणाल ने कहा कि हमारा सपना था कि दोनों साथ खेलें और टीवी पर दिखें. उन्‍होंने कहा कि हम इस बात का ख्‍वाब देखते थे कि एक दिन हम एक साथ खेलेंगे और साथ में टीवी पर दिखेंगे. यह सपना हमारे, हमारे शुभचिंतकों और परिवार के लिए सच रहा है.

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani