बंद के दौरान देवास में रोकी ट्रेन, नीमच में पुलिस चौकी में लगाई आग

इंदौर। मंदसौर में पुलिस फायरिंग में 6 किसानों की मौत के बाद आंदोलन ने और उग्र रूप ले लिया है। किसान संगठनों ने बुधवार को आधे दिन का प्रदेश बंद का आव्हान किया, कांग्रेस भी इसका समर्थन कर रही है। देवास में प्रदर्शनकारियों ने मक्सी-इंदौर ट्रेन को रोककर उसके कांच फोड़ दिए। इसमें साथ ही मालवा-निमाड़ अंचल में बंद का सबसे ज्यादा असर देखने को मिला। नीमच के हड़कियाकला में पुलिस चौकी में किसानों ने आग लगा दी। वहीं उज्जैन पुलिस और किसानों के बीच झड़प में 5 पुलिसकर्मी और तीन किसान घायल हो गए।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मंदसौर आने वाले थे, लेकिन उनका दौरा रद्द हो गया। अब वे गुरुवार को वहां जा सकते हैं। नीमच की हवाई पट्टी पर उनका विमान उतरना था, लेकिन एसपी मनोज कुमार का कहना है कि उनका दौरा स्थगित हो गया है, अब वे कल आएंगे।

सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस ने किसी भी वीआईपी के मंदसौर जिले में प्रवेश पर रोक लगा दी है। कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन किसानों के अंतिम संस्कार में शामिल होने मंदसौर जा रही थीं, लेकिन पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया। नीमच से मंदसौर को जोड़ने वाली सड़कों को बैरिकेट लगा दिए गए हैं।

जबलपुर में कांग्रेस नेता को किया नजरबंद

जबलपुर में किसान आंदोलन के बंद का असर नहीं दिखा। यहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। उधर युवा कांग्रेस नेता शशांक दुबे के घर बड़ी संख्या में सुबह से ही पुलिस बल तैनात कर उन्हें नजरबंद कर दिया गया। सभी एसडीएम, सीएसपी अपने इलाकों में तैनात रहे।

सरकार शवों पर कर रही राजनीति : अजय सिंह

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव मंदसौर के लिए रवाना हो गए। अजय सिंह ने सीएम द्वारा मृत किसानों के परिवार को एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा देने की बात पर कहा कि सरकार इस पर राजनीति कर रही है। उन्होंने घटना की जांच के लिए 8 विधायकों की कमेटी बनाई है। मंदसौर जाने से पहले कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि हम किसानों के साथ हैं। शिवराज सरकार किसानों के साथ हमेशा धोखा करती है। उन्होंने कहा हम लोग मंदसौर जाएंगे, प्रशासन रोकने की कोशिश करेगा तो भी हम जाएंगे।

नीमच-कोटा रोड पर डिकेन में किसानों ने लगाया जाम

बंद के दौरान किसानों ने नीमच-कोटा रोड पर डिकेन में चक्काजाम कर दिया। जिसके बाद सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। यहां एक ट्रक से सब्जियां निकालकर रास्ते में फेंक दी गई। सूचना मिलने के बाद पुलिस किसानों को हटाने के लिए मौके पर पहुंची। मोरवन-मनासा रोड पर किसानों ने चक्काजाम कर गाड़ि‍यों में रखा दूध सड़क पर फेंक दिया गया। नीचम के पास से निकलने वाले एनएच 71 पर भी किसानों ने जाम लगा दिया है। हड़कियाकला फंटे पर किसानों को समझाने पहुंचे एसडीएम को उन्होंने वापस लौटा दिया।

किसानों का कहना है कि हम उस एसडीएम से बात नहीं करेंगे जिसने हमारी गाड़ि‍यों को जेसीबी से क्षतिग्रस्त करवाया है। इसके बाद एसडीएम वहां से रवाना हो गए। इस दौरान किसानों ने वहां से गुजर रही जर्दे से भरी वैन को रोककर उसके कांच फोड़ दिए और जर्दे को लूट लिया। मालखेड़ा फंटे पर भी किसानों ने जाम लगा दिया।

खरगोन में बंद के आव्हान पर सुबह से ही दुकानें बंद रही। उधर कांग्रेस नेता और जनप्रतिनिधि भी शहर में घूमकर लोगों से बंद में समर्थन देने का आव्हान किया।

बड़वानी में शराब दुकान बंद कराने को लेकर तोड़फोड़ हो गई। यहां पूरा बाजार सुबह से ही बंद रहा, सिर्फ मेडिकल और फल-सब्जी की दुकानें खुली रहीं। यहां होटलों से नाश्ता उठाकर लोगों में बांट दिया गया।

सतना जिले में भी बंद का असर दिखा, कई कस्बों में दुकानें नहीं खुली। कांग्रेस और किसान संगठनों ने बाजार बंद का समर्थन किया।

शाजापुर और आगर के बाजार भी किसानों आंदोलन के समर्थन में बंद रहे।

महू में बंद का व्यापक असर दिखा, बंद को लेकर यहां कुछ जगह विवाद भी हुआ। कांग्रेसियों ने रैली निकालकर लोगों से बंद का समर्थन करने की अपील की। किसानों ने मानपुर-लेबड़ फोरलेन बंद कर दिया। इसके साथ ही एबी रोड और मानपुर, सिमरोल से गुजरने वाले हाईवे को बंद करने की कोशिश की।

देवास में बाजार बंद कराने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए। बागली भी पूरी तरह बंद रहा। प्रदर्शनकारियों ने मक्सी-इंदौर ट्रेन रोक ली और स्टेशन पर कांच भी फोड़ दिए।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani