सीएम के काफिले में घुसी कार, कांच तोड़ एनआरआई को किया गिरफ्तार

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सुरक्षा को ठेंगा दिखाते हुए एक एनआरआई कार लेकर वीआईपी रोड पर गुजर रहे कारकेट में घुस गया। पुलिसकर्मियों ने जैसे-तैसे उसकी कार साइड में लगाकर रुकवाई। पुलिस के चारों तरफ से घिरने के कारण आरोपी चालक ने खुद को कार के अंदर बंद कर लिया।

करीब पंद्रह मिनट तक पुलिसकर्मी लॉक खुलवाने का प्रयास करते रहे, लेकिन जब लॉक नहीं खुलने पर पुलिस ने ट्रैफिक पुलिस की मदद से कार डेढ़ किमी के्रन से खिंचवाकर थाने में रखवा दी। पुलिसकर्मियों के बाद भी लॉक नहीं खोलने पर पुलिस ने चालक तरफ के गेट का कांच तोड़कर युवक को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस के हत्थे चढ़ते ही आरोपी ने कहा कि उसने जानबूझकर ऐसा नहीं किया। वह तो कार में गाने सुन रहा था। हालांकि बीच-बीच में वह टेबल को जोर-जोर से लात मारने लगता था। टीआई कोहेफिजा अनिल बाजपेयी ने उसे समझाते हुए ठीक से बैठने को कहा।

टीआई बाजपेयी के अनुसार मंगलवार सुबह करीब साढ़े 9 बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कारकेट स्टेट हैंगर के लिए निकला था। कारकेट के वीआईपी रोड होते हुए करबला पहुंने पर एक कार कारकेट के सामने आ गई। पायलेट वाहन ने काफी हॉर्न बजाए, लेकिन कार चालक अपनी मस्ती में चलता रहा था। इसी दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने किसी तरह कार को बाजू में किया।

कारकेट निकलने के फौरन बाद वीआईपी रोड पर तैनात पुलिसकर्मी वहां पहुंच गए। उन्होंने युवक को कार से उतरने के लिए कहा, लेकिन उसने कार लॉक होने का हवाला देते हुए हाथ खड़े कर दिए। काफी देर तक प्रयास करने के बाद कार खुलवाने में नाकाम पुलिसकर्मी कार करे क्रेन से खींचकर कोहेफिजा पुलिस थाने ले आए। थाने में भी लॉक खुलवाने में नाकाम पुलिसकर्मियों ने मजबूर होकर चालक तरफ की कार के गेट का कांच तोड़कर उसे बाहर निकाला।

पूछताछ में आरोपी की पहचान प्रोफेसर कॉलोनी निवासी अम्रतास तिवारी (27) पिता श्रीराम तिवारी के रूप में हुई। श्रीराम तिवारी स्वराज एक्सप्रेस में सीएमडी के पद पर हैं। सूचना मिलते ही श्रीराम तिवारी भी थाने पहुंच गए। उन्होंने बताया कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद अम्रतास अमेरिका चला गया था। वहां एमबीए करने के बाद नौकरी करने लगा था, लेकिन वर्तमान में वह नौकरी छोड़कर भोपाल आ गया है। फिलहाल वह नौकरी की तलाश में है।

मुझे आवाज नहीं सुनाई दी

अम्रतास ने पूछताछ में बताया कि वह कार में गाने सुनते हुए घूम रहा था। उसे क्या पता कि सीएम का काफिला निकल रहा है। जब उसे सायरन सुनाई दिया तब उसने खुद ही कार बाजू से लगा ली थी। दरवाजे नहीं खोलने पर अम्रतास ने कहा कि लॉक हो गए थे, चाबी से नहीं खुल रहे थे।

सुरक्षा में चूक

सीएम की सुरक्षा में यह बड़ी चूक है। मुख्यमंत्री की सुरक्षा को देखते हुए उनके कारकेट के गुजरने वाले रास्ते पर जाने वाले वाहनों को पहले ही रोक दिया जाता है। इसके साथ ही उनके मार्ग को जोड़ने वाले कट प्वाइंट को भी बंद कर दिया जाता है, ऐसे में किसी कार चालक के कारकेट के सामने आना एक बड़ी चूक है।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani