मूल निवासी में फर्जीवाड़ा कर सैकड़ों छात्र पहुंचे नीट की मैरिट सूची में

सौरभ खंडेलवाल, भोपाल। व्यापमं की तर्ज पर नेशनल एलीजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट) में भी फर्जीवाड़ा सामने आया है। मेडिकल पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए कई छात्रों ने फर्जी तरीके से दो-दो राज्यों के मूल निवासी प्रमाण-पत्र बनवाए और मैरिट सूची में जगह बना ली। अब वे प्रवेश प्रक्रिया में भी शामिल हो रहे हैं।

खास बात यह है कि मूल निवासी के आधार पर इन छात्रों का नाम अलग-अलग राज्यों की मैरिट सूची में भी आ गया है। फर्जी मूल निवासी प्रमाण-पत्र बनवाकर यदि कोई छात्र स्टेट कोटे की सीट पर एमबीबीएस में प्रवेश लेता है तो इससे प्रदेश के योग्य मूल निवासियों का हक मारा जाएगा।

सीबीएसई द्वारा आयोजित नीट के रिजल्ट के आधार पर राज्यों ने एमबीबीएस पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए पात्रता सूची जारी की है। राज्यों के पास उपलब्ध एमबीबीएस की 15 प्रतिशत सीटें ऑल इंडिया कोटे से भरी जाती हैं, जबकि 85 प्रतिशत सीटें राज्यों के मूल निवासियों को दी जाती है।

छात्रों को इन सीटों पर प्रवेश के लिए मूल निवासी प्रमाण-पत्र देना होता है। सैकड़ों विद्यार्थियों ने दो राज्यों से मूल निवासी प्रमाण पत्र बनवाकर स्टेट कोटे की सीटों पर प्रवेश के लिए आवेदन कर दिया है और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। स्टेट कोटे की सीटंे खाली रहने पर छात्रों को मैनेजमेंट कोटे से प्रवेश दिया जाता है।

कार्रवाई की मांग करेंगे

मुख्य सचिव, चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों से इस मामले की शिकायत करेंगे और दोषियों के खिलाफ धोखाधड़ी की कार्रवाई करने की मांग करेंगे।

– विनायक परिहार, विचार मप्र

छह राज्यों में गड़बड़ी

छह राज्यों में इस तरह की गड़बड़ी चल रही है। दिल्ली, यूपी के छात्र मप्र, झारखंड और छत्तीसगढ़ के छात्रों का हक मार रहे हैं।

– डॉ. आनंद राय, व्हिसल ब्लोअर

कलेक्टर्स को लिखा है

ऐसी सूचना हमें मिली थी, इसके बाद सभी कलेक्टर्स को लिखा है कि अपने जिले का एक राजस्व अधिकारी काउंसिलिंग सेंटर पर लगाए और मूल निवासी प्रमाण पत्रों की जांच कराए। जिसके प्रमाण पत्र में गड़बड़ी पाई जाएगी, उसके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

– शिवशेखर शुक्ला, आयुक्त, चिकित्सा शिक्षा, मप्र

छात्र जो मप्र और उप्र दोनों की मैरिट लिस्ट में

नाम–रोल नंबर–ऑल इंडिया रैंक–मप्र रैंक–उप्र रैंक

वेल्लारी चंडोरे–908002192–2016–40–133

सौम्या भगत–910103041–2511–55–210

सौम्या सिंह–905103539–2525–56–214

निश्चय मंडल–910212295–3564–88–348

सपना सिंह–907705472–3818–96–381

प्रेरणा गुप्ता–908100433–4252–125–431

रामकृष्ण यादव–905101651–4961–149–534

वैभव शर्मा–910103423–5572–170–620

स्तुति सिंह–905307463–6394–206–727

गौरव लोहितकर–905303432–8621–296–1100

छात्र जो मप्र और छत्तीसगढ़ की मैरिट लिस्ट में

प्रकाश कुमार–907809014–2997–69–10

अंशु सिंह–901205028–16401–636–97

निलेश द्विवेदी–905008063–19902–656–98

अमृता सिंह गहरवार–905210609–18280–723–109

एकता अग्रवाल–905008810–25494–1001–169

रक्षा गोस्वामी–907821219–35521–1374–249

हर्षित सिंह–907802308–47782–1749–374

स्वप्निल साहू–905302944–50219–1823–403

विदांत व्यास–905302076–53518–1922–435

सरला झारिया–908004689–63970–2216–561

चेतन मेहरा–901206656–68971–2364–416

रोहिर भिंडेकर–901201689–79300–2632–737

ऋषभ सोनी–901201689–79951–2650–742

ऋचा श्रीवास्तव–908006356–90956–2929–864

अनिमेष चतुर्वेदी–907704990–94279–3005–900

प्राची अग्रवाल–905103162–94928–3018–911

आकृति सिंह–9080027703–95113–3020–91

छात्र जो मप्र और राजस्थान की मैरिट लिस्ट में

आयुष्मान दुबे–905005033–3619–89–567

अक्षिता व्यास–908006049–700–236–1199

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani