शहीदों के नाम पर रखे गए ईडन गार्डन्स स्टेडियम के 4 स्टैंड्स के नाम

बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) ने शुक्रवार को अपने लोकप्रिय क्रिकेट स्टेडियम ईडन गार्डन्स के चार स्टैंडों के नाम उन सैनिकों के नाम किए हैं, जिन्होंने देश के लिए अपना बलिदान दिया है। इन स्टैंडों का नामकरण शुक्रवार को दिल्ली डेयरडेविल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच हुए आईपीएल मैच से पहले किया गया।

ईडन गार्डन्स स्टेडियम के ये चार स्टैंडों के नामों की घोषणा सीएबी अध्यक्ष और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के साथ-साथ सेना के कमान के कमांडिंग-इन-चीफ जनरल लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बख्शी की मौजूदगी में किए गए।

Surendra Poonia ✔ @MajorPoonia
Eden Garden will dedicate 4 stands on name of #WarHeroes
Col NJ Nair,AC,KC
LtCol Dhan Singh,PVC
Sub Joginder,PVC
Hav Hanganan Dada,AC @adgpi
3:58 अपराह्न – 28 Apr 2017
725 725 रीट्वीट 3,071 3,071 पसंद
सीएबी के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कर्नल नीलकंठ जयचंद्र नायर (एच-1 ब्लॉक) और हवलदार हंगपन दादा (डी-ब्लॉक) स्टैंडों का उद्घाटन किया।

पिछले साल हंगपन दादा उत्तरी कश्मीर में चार संदिग्ध घुसपैठियों को मार गिराने के दौरान शहीद हो गए थे। वहीं, नागालैंड में अपने दस्ते का नेतृत्व कर रहे कर्नल नायर 1993 में उनके काफिले पर सशस्त्र विद्रोहियों द्वारा किए गए हमले में शहीद हुए थे।

अन्य दो स्टैंडों के नाम सूबेदार जोगिंदर सिंह और लेफ्टिनेंट कर्नल धान सिंह थापा के नाम पर रखे गए। सूबेदार जोगिंदर सिंह ने 1962 में घायल होने के बावजूद भी एनईएफए में अपनी पोजीशन से पीछे हटने से इनकार कर दिया था। उन्हें मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया। उनके नाम पर रखे गए स्टैंड का सेना के पूर्वी कमान के कमांड मुख्यालय के स्टॉफ प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल दुष्यंत सिंह और सीएबी के संयुक्त सचिव सुबीर गांगुली ने अनावरण किया।

साल 1962 में लद्दाख में चीन की सेना के तीन बार किए गए हमलों को खारिज करने वाले लेफ्टिनेंट कर्नल थापा को बाद में कैद कर लिया गया। उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। उनके नाम के स्टैंड का अनावरण बंगाल एरिया जनरल आफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल गिरिराज सिंह और सीएबी के संयुक्त सचिव अभिषेक डालमिया ने किया।

ईडन गार्डन्स स्टेडियम के कुछ स्टैंड पहले से ही जगमोहन डालमिया, बी.एन. दत्त, पंकज रॉय और गांगुली के नाम पर हैं।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani