यहां सभी भाई करते हैं एक ही लड़की से शादी, एक टोपी पर निर्भर करता है विवाहित जीवन

हमारे देश के हर क्षेत्र का रहन-सहन, भाषा जिस प्रकार अलग-अलग है। उसी तरह हर जगह की परंपराएं और रीति-रिवाज भी कुछ अलग हैं जो उस क्षेत्र की पहचान बनी हुई है।

नई दिल्ली: हमारे देश में हर जाति, धर्म के लोग अपने समुदाय से जुड़ी परंपराएं और रीति-रिवाजों को मानते हैं और उनका पालन करते हैं। हमारे देश के हर क्षेत्र का रहन-सहन, भाषा जिस प्रकार अलग-अलग है। उसी तरह हर जगह की परंपराएं और रीति-रिवाज भी कुछ अलग हैं जो उस क्षेत्र की पहचान बनी हुई है। ऐसी ही एक परम्परा है हिमाचल प्रदेश की जिसमें महिला का विवाह एक ही परिवार के सभी सगे भाइयों से एक साथ किया जाता है। यहाँ के निवासी इस प्रथा का सम्बन्ध पांडवो के अज्ञातवास से जोड़ते है। (इस गांव में शादी से पहले संबंध बनाना है जरूरी, तभी होती है शादी!)

हम बात कर रहे हैं हिमाचल प्रदेश के किन्नौर क्षेत्र की जहां आज भी बहु पति विवाह किए जाते हैं। एक ही परिवार के सगे भाईयों के साथ एक हीं युवती का विवाह किया जाता है। घर के सभी सदस्य एक साथ एक ही घर में रहते हैं। अगर किसी महिला के कई पतियों में से किसी एक की मौत भी हो जाए तो भी महिला को दुख नहीं मनाने दिया जाता है।

इस परंपरा की खास बात यह है कि विवाह के बाद सारी परंपरा एक टोपी पर निर्भर रहती हैं। अगर किसी परिवार में 5 भाई है और सभी का विवाह एक ही महिला के साथ हुआ है। ऐसे में अगर कोई भाई अपनी पत्नी के साथ है तो वह कमरे के दरवाजे के बाहर अपनी टोपी टांग देता है। जब तक टोपी दरवाजे पर रखी है, कोई दूसरा भाई उस स्थान पर नहीं जा सकता। इस तरह भाइयों में मान-मर्यादा रहती है।

किन्नौर के निवासी कहते हैं कि यह प्रथा इसलिए चली आ रही है क्योंकि अज्ञातवास के दौरान पांचों पांडवों ने यही समय बिताया था। सर्दी में बर्फबारी की वजह से यहां की महिलाएं और पुरुष घर में ही रहते हैं। बर्फबारी की वजह से कोई काम नहीं रहता है। यहां पुरुष नहीं बल्कि महिलाएं घर की मुखिया होती हैं। इनका काम होता है पति व संतानों की सही ढंग से देखभाल करना।

परिवार की सबसे बड़ी स्त्री को गोयने कहा जाता है। उसके सबसे बडे पति को गोर्तेस, कहते हैं यानी घर का स्वामी। यहां की एक और बात खास होती है वह यह कि यहां खाने के साथ शराब अनिवार्य होती है। यदि पुरुषों का मन दुखी होता है तो यह शराब और तम्बाकू का सेवन करते हैं वहीं जब महिलाओं को किसी बात को लेकर दुःख होता है तो वह गीत गाती हैं।

RO-11436/55

11359/79

11363/40

Recommended For You

About the Author: india vani